31.8 C
Maharajganj
May 18, 2024 | 7:19 am
Khabre Indo Nepal
उत्तरप्रदेश

कैंसर जागरूकता दिवस, अशिक्षा का अभाव होने के कारण कैंसर का पता देर से लग पाता है : बीपी त्यागी

नोयडा।

आज 07/11/22 को कैंसर दिवस है, लेकिन जागरूकता की कमी का कारण अशिक्षा, कैंसर का भय और अन्य करणों की वजह से भारत में लगभग 50% कैंसर का पता देर से चलता है, यह बातें एक संदेश समाचार पत्र के संवाददाता से बात करते हुए वरिष्ठ ईएनटी प्रोफेसर डॉ0 बी पी त्यागी ने कहीं, बीपी त्यागी जी का मानना ​​है कि भारत में 70% कैंसर के लिए रोकथाम योग्य कारक हैं, जिनमें से 40% तंबाकू से संबंधित हैं, 20% संक्रमण से संबंधित हैं और 10% अन्य कारणों के कारण हैं,
कैंसर के बारे में लैंसेट ( एक जर्नल ) की रिपोर्ट के अनुसार, भारत में हृदय रोग के बाद दूसरा सबसे बड़ा मौत का कारण कैंसर है, जिसमें कहा गया है कि तंबाकू का उपयोग 14 प्रकार के कैंसर के लिए एक जोखिम कारक है, नाक, कान , गले के कैंसर के लिए सबसे बड़ा जोखिम कारक तंबाकू (बीड़ी,सिगरेट, चबाने वाला तंबाकू,गुलमंजन,हुक्का इत्यादि) और शराब हैं, खासकर जब एक साथ उपयोग किया जाता है, 85 प्रतिशत सिर और गर्दन के कैंसर तंबाकू से जुड़े होते हैं, अन्य जोखिम कारकों में औद्योगिक विषाक्त पदार्थों (जैसे, लकड़ी की धूल, पेंट ,पोल्युशन, आहार में मिलावट संबंधी कारक, मानव पेपिलोमावायरस, एपस्टीन-बार वायरस, गैस्ट्रोओसोफेगल रिफ्लक्स रोग (जीईआरडी ), एस्बेस्टस एक्सपोजर और विकिरण शामिल हैं,
एक सेंटीमीटर से बड़ी गांठ या जो ठीक नहीं होता है, लगातार गले में खराश, निगलने में कठिनाई और आवाज़ बैठना, दांत का हिलना ,अन्य लक्षण जो आप अनुभव कर सकते हैं: मुंह से रक्तस्राव, जबड़े की सूजन, बार-बार जमाव, साइनस संक्रमण जो उपचार से ठीक नहीं होते,, सिरदर्द, कान का दर्द, चेहरे का सुन्न होना या पक्षाघात, बढ़े हुए लिम्फ नोड्स और वजन व भूख का अस्पष्टीकृत कम होना, अब इस समय का एनसीआर में पोल्युशन भी अगर 60 दिन से जयादा रहता है तो यह कैंसर का कारण हो सकता है, क्या न खायें, तंबाकू पानमसाला,सुरती,शराब,स्पाइसी फूड्स ,आग पे पकाया मांश,
दांत का अपने आप हिलना व मसूड़े से खून आना, मुँह में सफ़ेद, काले, लाल दाग (प्री कैंसर कंडीशन ) जीभ या मुँह में ऐसा छाला जो ठीक ना हो रहा हो, आवाज़ का बदलना, कुछ अटका लगना, खाते हुए बार बार फंदा लगना, नाक से खून का आना व नाक के आसपास सूजन बने रहना, गर्दन में 1 सेंटीमीटर से बड़ी गाँठ जो ठीक नहीं हो रही हो, कान में ब्लड के साथ मवाद का बहना और दर्द बने रहना ।सब कैंसर से मिलते लक्षण है ।
बचाव, खाने में किसी भी irritant से बचना समय से साधारण खाने का सेवन करना, रात में सोने से पहले खाने और सोने के बीच में दो घंटे का गैप रखना, पानी व हल्दी का सेवन अधिक मात्रा में करना इत्यादि।

Spread the love

Related posts

भारतीय जीवन बीमा निगम (LIC) के 66 गौरव और विश्वास के साथ 66वां वर्षगाठ बहुत ही धूम धाम से मनाया गया

[email protected]

जश्ने ईद मिलादुन्नबी के मौके पर मुस्लिमसमुदाय द्वारा धूमधाम से निकाला गया जुलुस और मनाया गया जन्मदिन

[email protected]

लक्ष्मीपुर ब्लाक में प्रधान संघ के अध्यक्ष बने अखिलेश उपाध्याय इंतजार हुआ खत्म संपन्न हुआ चुनाव

[email protected]

तेज रफ्तार कार ने दो चचेरी बहनों को रौंदा मौके पर हुई मौत

[email protected]

दलगत सीमावो से परे भारत के सच्चे सेवक थे स्व0 मुलायम सिंह”

[email protected]

भाजपा नेता रोहन चौधरी के निर्देश पे युवावों ने सुरु किया संगठनात्मक कार्य, लोगो की समश्यायो को सुना दर्जनों युवावों को दी सदस्यता

[email protected]

Leave a Comment